Loading...
Dehati Samaaj

Dehati Samaaj

  • Author: Sarat Chandra Chattopadhyay

बाबू वेणी घोषाल ने मुखर्जी बाबू के घर में पैर रखा ही था कि उन्हें एक स्त्री दीख पड़ी, पूजा में निमग्न। उसकी आयु थी, यही आधी के करीब। वेणी बाबू ने उन्हें देखते ही विस्मय से कहा, मौसी, आप हैं और रमा किधर है? मौसी ने पूजा में बैठे ही बैठे रसोईघर की ओर संकेत कर दिया। वेणी बाबू ने रसोईघर के पास आ कर रमा से प्रश्नख किया - तुमने निश्चिय किया या नहीं, यदि नहीं तो कब करोगी? रमा रसोई में व्यस्त थी। कड़ाही को चूल्हे पर से उतार कर नीचे रख कर, वेणी बाबू के प्रश्नं के उत्तर में उसने प्रश्नह किया - बड़े भैया, किस संबंध में?

Read Now

E-books will not be available from 31st May 2022 onwards on Epic On apps and web , users can continue to enjoy other services.